Friday , June 22 2018
Breaking News
होम / राजनीति / बीजेपी पर दबाव के लिए जस्टिस लोया केस उठाती रहेगी कांग्रेस

बीजेपी पर दबाव के लिए जस्टिस लोया केस उठाती रहेगी कांग्रेस

नई दिल्ली

चार जजों की ओर से सुप्रीम कोर्ट की कार्यप्रणाली पर सवाल उठने के बाद कांग्रेस पहली ऐसी राजनीतिक पार्टी रही, जो इस मसले पर खुलकर सामने आई। कांग्रेस ने शुक्रवार को बयान जारी करते हुए इसे बेहद गंभीर करार दिया और इसे लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा बताया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी खुद मीडिया के सामने आए और कहा कि जस्टिस लोया की मौत की जांच सुप्रीम कोर्ट द्वारा उच्चतम स्तर पर होनी चाहिए। राहुल का इस मामले में बयान देना अपने आप में बेहद अहम इसलिए है कि जस्टिस लोया के बहाने कांग्रेस बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए दबाव बनाने की कोशिश में है। दरअसल, जस्टिस लोया के मामले की आंच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह तक पहुंच रही है। जाहिर है कि कांग्रेस इस मामले को उठाकर इसका राजनीतिक लाभ लेना चाह रही है।

कांग्रेस की रणनीति
कांग्रेस ने चार जजों के मामले को उठाते हुए अपना रुख बेहद सावधानी भरा रखा। कांग्रेस ने न्यायपालिका के भीतर उठे सवालों पर अपनी चिंता तो जाहिर की, लेकिन वह सरकार और जुडिशरी पर सीधी टिप्पणी करने से बची। कांग्रेस का पूरा जोर जस्टिस लोया की मौत की जांच पर रहा। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस की रणनीति जस्टिस लोया की मौत के मामले को लगातार उठाकर कहीं न कहीं बीजेपी व सरकार पर दबाव बनाने की है।

हालांकि कांग्रेस अंदरखाने मान रही है कि जुडिशरी का यह मामला ज्यादा लंबा खिंचने वाला नहीं है। जल्द ही ये सवाल शांत हो जाएंगे। इसलिए वह सारा जोर जस्टिस लोया की मौत के मामले में दे रही है। कांग्रेस फिलहाल सरकार और सुप्रीम कोर्ट के रुख को भी सावधानी से तौल रही है।

कांग्रेस का रुख
इस मामले में कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने पार्टी की ओर से बयान जारी कर कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस, चीफ जस्टिस को लिखी उनकी चिठ्ठी व उसे मीडिया में जारी करना अपने आप में गंभीर मामला है। खासकर जजों ने जो टिप्पणी की है, वह काफी परेशान कर देने वाली है। जजों का इस तरह से मीडिया में आने का दूरगामी असर होगा।

वहीं, राहुल गांधी ने इसे आजाद भारत के इतिहास में अपने तरह की पहली घटना करार दिया। राहुल ने कहा कि जजों ने जो मुद्दे उठाए हैं, वे काफी अहम हैं। जजों के सवाल बेहद जरूरी हैं, उन्हें ध्यान से देखा जाना चाहिए। देश में जो लोग भी न्याय-व्यवस्था पर यकीन रखते हैं, उनकी नजरें इस मामले पर हैं। इसे बेहद संजीदगी से देखा जाना चाहिए।राहुल ने जस्टिस लोया की मौत की सुप्रीम कोर्ट के जज से जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि मुझे देश की न्याय-व्यवस्था पर भरोसा है। उम्मीद है कि इस मामले की निष्पक्षता से जांच होगी।

ऐसा रहा घटनाक्रम
इस मामले के सामने आते ही कांग्रेस ने जहां लोकतंत्र को खतरे में करार देते हुए अपनी चिंता जाहिर करनी शुरू कर दी। साथ ही कांग्रेस ने पूरे दिन इस घटनाक्रम पर नजर बनाए रखी। सूत्रों के मुताबिक, मामला सामने आने पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दोपहर में अपनी पार्टी के कानून विशेषज्ञों से बात कर लाइन लेने की बात कही। शाम को राहुल के सरकारी आवास पर कांग्रेस ने पार्टी के वकील नवरत्नों के साथ मीटिंग की। जिसमें पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद, कपिल सिब्बल, पी चिदंबरम, अहमद पटेल, मोतीलाल बोरा, मनीष तिवारी, काग्रेस लीगल सेल के प्रमुख विवेक तन्खा व कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला शामिल हुए।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....

About Yogendra Mishra

इसे भी पढ़ें

PM मोदी के घर डिनर करेंगे BJP-RSS के नेता, 2019 पर होगा मंथन

नई दिल्ली 2019 लोकसभा चुनाव को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने अपनी कमर कस …