लोहरदगा में कौन मारेगा बाजी? समीर उरांव, सुखदेव भगत या चमरा लिंडा…

13 मई को हुए मतदान के बाद चौक चौराहों पर जीत-हार का दावा का दौर शुरू Hussain Ansari Lohardaga. लोहरदगा संसदीय निर्वाचन सीट पर बीते 13 मई को जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के आपसी समन्वय से शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हो गया. लोहरदगा लोस सीट इसलिए भी दिलचस्प रहा चूंकि यहां पर दोनों […]

May 15, 2024 - 17:30
 0  2
लोहरदगा में कौन मारेगा बाजी? समीर उरांव, सुखदेव भगत या चमरा लिंडा…

13 मई को हुए मतदान के बाद चौक चौराहों पर जीत-हार का दावा का दौर शुरू

Hussain Ansari

Lohardaga. लोहरदगा संसदीय निर्वाचन सीट पर बीते 13 मई को जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन के आपसी समन्वय से शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हो गया. लोहरदगा लोस सीट इसलिए भी दिलचस्प रहा चूंकि यहां पर दोनों राष्ट्रीय पार्टियों ने खूब जोर आजमाइश किया है. वहीं इन दोनों के बीच वोटरों को सेंधमारी कर अपने पाले में लाने के लिए झामुमो से बगावत होकर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लोहरदगा लोकसभा सीट पर अपनी किस्मत आजमाने कूदे बिशुनपुर से लगातार तीन बार विधायक रहे चमरा लिंडा भी अपने दम पर खूब सभाएं की और मतदाताओं को तरह-तरह के लुभावने वादे भी किए. बात करें लोहरदगा लोकसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत का तो जिला प्रशासन द्वारा लगातार एक महीने से स्वीप कार्यक्रम आयोजित कर विभिन्न तरीकों से मतदाताओं को जागरूक करने का काफी सराहनीय कार्य किया. लोहरदगा लोकसभा चुनाव अब समाप्त हो चुका है. यहां पर इंडिया गठबंधन प्रत्याशी सुखदेव भगत खेमा जीत को लेकर शत-प्रतिशत आश्वस्त हैं तो वहीं दूसरी ओर भाजपा प्रत्याशी समीर उरांव का खेमा भी पूरी तरह से रिकार्ड मतों से जीत दर्ज किए जाने की बातें कर रही है. अब ऐसे में चमरा लिंडा समर्थक भी हम किसी से कम नहीं के सुरताल पर जीत सुनिश्चित की बात करते हुए देखे जा रहे हैं. इन तीनों उम्मीदवारों के समर्थक चौंक चौराहे और गली मुहल्ले में चाय पकौड़े की दुकान से लेकर होटलों में जीत-हार के आंकड़े देने लगे हैं. इसे लेकर तीनों प्रत्याशियों के समर्थकों द्वारा दांव-पेंच भी लगाना शुरू कर दिया गया है. लोहरदगा लोकसभा सीट पर हुए मतदान पूरे झारखंड में इसलिए भी काफी अहम माना जा रहा है चूंकि यहां पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, झारखंड प्रदेश के मुखिया चम्पाई सोरेन समेत कई दिग्गज अपने प्रत्याशियों के पक्ष में जनसभा को संबोधित कर जनता को अपनी ओर खींचने का प्रयास किया है.

इसे भी पढ़ें-दो साल में CID के साइबर सेल में 22924 मामले दर्ज, 11.32 करोड़ किये गये फ्रीज

चमरा लिंडा ने खींचा सबका ध्यान

बात करें निर्दलीय प्रत्याशी चमरा लिंडा की तो उन्होंने खुद मोर्चा संभाल रखा था और पूरे लोकसभा क्षेत्र में व्यापक तरीके से प्रचार-प्रसार और जनसभा कर मतदाताओं को अपने पक्ष में मतदान करने के लिए अपील भी किया. लोहरदगा लोकसभा संसदीय सीट पर चमरा लिंडा पारी का आगाज कर पाएंगे या फिर इंडिया गठबंधन प्रत्याशी सुखदेव भगत एवं भाजपा के उम्मीदवार समीर उरांव के सिर पर जीत का सेहरा सजेगी. बात जो भी हो लेकिन इतना तो तय है कि लोहरदगा लोकसभा सीट पर संपन्न हुए मतदान से तीनों प्रत्याशी पूरी तरह संतुष्ट नहीं हो पा रहे हैं कि ताज उन्हीं के सिर सजेगा. यहां पर इंडिया गठबंधन, भाजपा और निर्दलीय उम्मीदवार के समर्थकों द्वारा जीत-हार के क्यास का वोटर्स भी खूम मज़े ले रहे हैं. अब यह सवाल उठता है कि इंडिया गठबंधन प्रत्याशी सुखदेव भगत और भाजपा आजसू गठबंधन प्रत्याशी समीर उरांव व झामुमो के बागी विधायक चमरा लिंडा लोहरदगा के मतदाताओं के मिजाज अपनी ओर खींचने में कितना कामयाब हो पाए हैं यह तो 4 जून को ईवीएम मशीन खुलने और मतगणना से स्पष्ट हो पाएगा.

इसे भी पढ़ें-19 को पीएम मोदी और 17 से अमित शाह झारखंड के दो दिनी दौरे पर

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow