जमशेदपुर : बागबेड़ा फायरिंग मामले में छह युवक भेजे गए जेल

पुलिस ने मो चांद और नीरज दुबे समेत छह आरोपियों को किया था गिरफ्तार भारी मात्रा में हथियार और गोली बरामद Jamshedpur (Rohit Kumar) : जमशेदपुर के बागबेड़ा में विजय उर्फ मोनू पर फायरिंग करने के मामले में पुलिस ने बीते दिनों मुख्य साजिशकर्ता कन्हैया सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. इधर, मोनू पर […]

May 15, 2024 - 17:30
 0  3
जमशेदपुर : बागबेड़ा फायरिंग मामले में छह युवक भेजे गए जेल
  • पुलिस ने मो चांद और नीरज दुबे समेत छह आरोपियों को किया था गिरफ्तार
  • भारी मात्रा में हथियार और गोली बरामद

Jamshedpur (Rohit Kumar) : जमशेदपुर के बागबेड़ा में विजय उर्फ मोनू पर फायरिंग करने के मामले में पुलिस ने बीते दिनों मुख्य साजिशकर्ता कन्हैया सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. इधर, मोनू पर फायरिंग करने वाले मो. चांद और नीरज दुबे समेत उलीडीह में गुड्डू पांडे के घर पर भी फायरिंग करने वाले सिंटू सिंह, डेविड टोप्पो, सुनील रजक और ब्रजेश कुमार पांडेय भी पुलिस के हत्थे चढ़े है. आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने एक रिपीटर बंदूक, चार देसी पिस्टल एक देसी कट्टा, और कुल 102 राउंड गोली भी बरामद की है. बुधवार को सभी को जेल भेज दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : मझगांव : 200 बच्चों को कंप्यूटर का ज्ञान दिलाना प्राथमिकता : मूर्ति

कोलकाता से हुई गिरफ्तारी

मामले की जानकारी देते हुए एसएसपी किशोर कौशल ने बताया कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि सभी आरोपी कोलकाता में छिपे हुए है इसके बाद डीएसपी भोला प्रसाद सिंह के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया. टीम ने कोलकाता पुलिस को मदद से कोलकाता के बागयूटी थाना क्षेत्र के लोकनाथ अपार्टमेंट में छापेमारी की. इस दौरान नीरज दुबे, डेविड टोप्पो, मो चांद, सिंटू सिंह और बृजेश कुमार पांडेय को गिरफ्तार किया. इसके अलावा पुलिस ने सुनील रजक को जमशेदपुर से ही गिरफ्तार किया.

इसे भी पढ़ें : तिरंगा फहराने जैसा न हो जाये पहाड़ी मंदिर के रोपवे योजना का हाल

जमीन विवाद को लेकर चलाई थी गोली

एसएसपी ने बताया कि कन्हैया सिंह और मोनू का पुराना विवाद था वहीं स्टेशन के पार्किंग पर नीरज दुबे पर फायरिंग के मामले में मोनू का नाम आया था. इसी को लेकर नीरज और कन्हैया ने हाथ मिला लिया और मोनू की हत्या की प्लानिंग कर दी. उन्होंने हत्या के लिए चांद से संपर्क किया. एक हफ्ते पूर्व से ही फरार चल रहे आशीष ने रेकी की. घटना स्थल पर डेविड टोप्पो, चांद और सुनील रजक मौजूद थे. गोली चांद ने चलाई. घटना को अंजाम देने के बाद सभी सड़क मार्ग से कोलकाता चले गए. इसके लिए ब्रजेश पांडे ने मदद की थी. ब्रजेश ने ही हथियार को ठिकाने लगाया था.

इसे भी पढ़ें : चेकिंग अभियान रुकने से राजधानी की सड़कों पर फिर से बढ़ गए गैर परमिट वाले ऑटो

सभी अपराधी कई मामलों में चल रहे थे फरार 

एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार सभी अपराधी किसी ना किसी मामले में फरार चल रहे थे. सिंटू सिंह पर हत्या और फायरिंग के कुल चार मामले दर्ज है वहीं डेविड पर भी तीन मामले दर्ज है. मो चांद पर दो और सुनील पर एक जबकि नीरज पर दो मामले दर्ज है. ब्रजेश पांडे हत्या के मामले में सजायाफ्ता है और फिलहाल अपील बेल पर बाहर है.

इसे भी पढ़ें : चेकिंग अभियान रुकने से राजधानी की सड़कों पर फिर से बढ़ गए गैर परमिट वाले ऑटो

एक साथ दो मामलों का हुआ खुलासा

आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही एक साथ दो मामलों का खुलासा हो गया. बागबेड़ा पर मोनू सिंह पर फायरिंग और उलीडीह में गुड्डू पांडे पर फायरिंग का खुलासा किया गया है. फिलहाल सभी आरोपियों को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी. आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow